Hot Widget

Type Here to Get Search Results !

Chardham Yatra 2021: दो e-Pass के साथ उत्तराखंड सरकार ने जारी की SOP

Chardham Yatra 2021: दो e-Pass के साथ उत्तराखंड सरकार ने जारी की SOP
श्री केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री एवं यमुनोत्री, उत्तराखंड के चारधाम  (फोटो:UHN Archives)

उत्तराखंड में चारधाम यात्रा पर आने वाले अन्य राज्यों के अनुयायियों को स्मार्ट सिटी के अलावा देवस्थानम बोर्ड पोर्टल पर भी पंजीकरण कराना होगा। स्मार्ट सिटी पोर्टल पर नामांकन करके आप राज्य तक पहुंच सकते हैं। देवस्थानम बोर्ड की साइट पर नामांकन करते समय, आप अपनी यात्रा के लिए इलेक्ट्रॉनिक परमिट प्राप्त कर सकते हैं। राज्य यात्रियों के लिए एकमात्र आवश्यकता यह है कि वे देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट पर पंजीकरण करें।

चार धाम यात्रा 2021 के लिए आवश्यक जानकारी एवं निर्देश 

देवस्थानम बोर्ड पर रजिस्ट्रेशन हेतु : - क्लिक करें 
स्मार्टसिटी रजिस्ट्रेशन हेतु : - यहाँ क्लिक करें 

तीन राज्यों के यात्रियों लिए अतिरिक्त सख्ती 

केरल, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश से आने वाले यात्रियों को कोविड वैक्सीन की दोनों डोज लगाने के बावजूद यात्रा तारीख से 72 घंटे पहले की उसी के बाद ई पास जारी हो पाएगा। 


चारों धामों में इन जगहों पर रात को रुक सकते हैं यात्री 

देवस्थानम बोर्ड के सीईओ रविनाथ रमन ने बताया कि यात्रियों की संख्या दर्शन करने के लिए तय की गई है। दर्शन करने के बाद यात्री चाहे तो बदरीनाथ धाम टाउन में कितने दिनों के लिए भी रह सकता है। 


ये हैं कंट्रोल रूम के नंबर


0135559898, 0135552627, 0135552628 

यहां होगी जांच

गौचर, ग्वालदम, पांडुकेश्वर, पंडुवाखाल, मोहनखाल, सिरोबगड़, चिरबटिया, सोनप्रयाग, स्यान्सू, नगुण, धनोत्री, डाम्टा।


केदारनाथ की यात्रा कैसे करें

रुद्रपयाग ऋषिकेश से 165 किलोमीटर की ड्राइव पर है। केदारनाथ राजमार्ग पर चलते हुए, यह गौरीकुंड से 76 किलोमीटर, फिर केदारनाथ धाम से 14 किलोमीटर है। यहां से यात्री घोड़े, छड़ी या कैंडी के टुकड़े के साथ या तो चल सकता है या छिप सकता है। केदारनाथ में अभी तक हेलीकॉप्टर सेवा शुरू नहीं हो पाई है।


बद्रीनाथ की यात्रा कैसे करें


ऋषिकेश से बद्रीनाथ के लिए एक बस सेवा चलती है। यह 301 किलोमीटर की दूरी है। आप अपनी कार से भी बद्रीनाथ पहुंच सकते हैं।


गंगोत्री-यमुनोत्री की यात्रा कैसे करें

गंगोत्री धाम तुरंत सड़क के उस पार है और ऑटोमोबाइल द्वारा पहुँचा जा सकता है। गंगोत्री ऋषिकेश और उत्तरकाशी के माध्यम से पहुँचा जा सकता है। जानकी चट्टी से पैदल करीब पांच किलोमीटर की दूरी पर यमनोत्री धाम है। जानकी चट्टी बड़कोट, रारिकेश, मसूरी या विकासनगर के माध्यम से पहुँचा जा सकता है।


इन बातों का ध्यान आवश्यक 

  • मानसून के दौरान, चारधाम में सड़कें अक्सर बंद हो जाती हैं और फिर से खुल जाती हैं, इसलिए पहाड़ की सड़कों पर जानकारी इकट्ठा करने के बाद ही चलते हैं।
  • रात में यात्रा करने की अनुशंसा नहीं की जाती है। बसों और टैक्सियों को वरीयता देनी चाहिए।
  • चारों धामों में बारिश के कारण तापमान लगातार गिर रहा है और बर्फ गिर रही है, इसलिए गर्म कपड़े पैक करें।
  • यदि आप केदारनाथ और यमुनोत्री के बीच चल रहे हैं, तो आपके साथ बांस की छड़ें रखना एक अच्छा विचार है। जो आपको पैदल चलने में सहायक होगा।
  • चारों धामों की ऊंचाई अधिक होने के कारण ऑक्सीजन की कमी होने के कारण ऑक्सीजन सिलेंडरों को एक साथ रखा जा सकता है।
  • चारधाम में स्वच्छता के लिए अपने साथ कोई पॉलिथीन या प्लास्टिक न लाएं।



18 सितंबर को सर्वाधिक पढ़े जाने वाले समाचार

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

उत्तराखंड की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें