उत्तराखंड: रुड़की का लिब्बरहेड़ी गांव कंटेनमेंट जोन घोषित, 15 दिन में हुई 35 से ज्यादा मौतें

 

लिब्बरहेड़ी गांव में तैनात पुलिस
लिब्बरहेड़ी गांव में तैनात पुलिस 

रुड़की के लिब्बरहेड़ी में 15 दिनों के भीतर 35 से ज्यादा मौतों की खबर अमर उजाला में प्रकाशित होने के बाद नींद से जागे प्रशासन ने गांव को कंटेनमेंट जोन घोषित कर पूरी तरह पाबंद कर दिया है। घर से बाहर निकलने पर पुलिस ग्रामीणों के खिलाफ मुकदमे दर्ज कर उनसे सख्ती से निपटेगी। वहीं, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नमामी बंसल ने घर-घर से ग्रामीणों की कोरोना जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने आंगनबाड़ी, आशा कार्यकर्ताओं और स्थानीय वॉलियंटर्स को सक्रियता के साथ ग्रामीणों को जांच केंद्र तक पहुंचाने को कहा है। यही नहीं, गांव में पिछले दिनों संदिग्ध हालात में हुई मौतों की सूची तैयार कर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं।



16 मई के अंक में अमर उजाला माई सिटी ने लिब्बरहेड़ी गांव में कोरोना के संदिग्ध लक्षण से पीड़ित कई ग्रामीणों की मौत और कई के बुखार से पीड़ित होने का मामला प्रमुखता से उठाया था। सोमवार को खबर का संज्ञान लेकर जिला प्रशासन के अधिकारी मंगलौर के लिब्बरहेड़ी गांव पहुंचे। यहां पर ग्रामीणों ने पूछताछ में बताया कि गांव में हालात गंभीर है।



उत्तराखंड में कोरोना: चार जिलों में बनेगा बच्चों का कोविड अस्पताल, जल्द केंद्र को भेजेंगे प्रस्ताव


यथास्थिति से रूबरू होने के बाद ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नमामी बंसल और एसपी देहात प्रमेंद्र सिंह डोबाल ने मामले की गंभीरता को देखते हुए गांव को सख्त पाबंदी वाला कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित कर दिया। प्रशासन ने कंटनेमेंट जोन घोषित करने के साथ ही पूरे गांव को चार भागों में बांट दिया है। इसके तहत, एक जोन का व्यक्ति अब दूसरे जोन में प्रवेश नहीं कर सकता है। इसके लिए पुलिस ने दो पीसीआर गाड़ियों के साथ ही पुलिस की दो टीमों का गठन भी किया है। पुलिस की ये टीमें गांव में कंटेनमेंट जोन का सख्ती से पालन कराने के साथ ही कड़ा पहरा रखेंगी।


वहीं, स्वास्थ्य विभाग ने भी मामले को गंभीरता से लेकर दो टीमों को गांव भेजकर ग्रामीणों की सैंपलिंग कराई। साथ ही मंदिर और मस्जिदों से एनाउंसमेंट कराकर लोगों को टेस्टिंग के प्रति जागरूक किया जा रहा है। जिला प्रशासन के हरकत में आते ही स्थानीय पुलिस भी पूरी तरह से सक्रिय हो गई है। पुलिस ने गांव में ही राशन आदि की व्यवस्था कराने के साथ ही ग्रामीणों को बाहर न निकलने के निर्देश दिए। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नमामी बंसल ने एलआईयू, आंगनबाड़ी और आशाओं को 24 घंटे अलर्ट रहने के निर्देश दिए हैं। साथ ही गांव में गत 15 दिनों के भीतर हुई मौतों की सूची भी तैयार कर जिला प्रशासन को उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने कहा कि 14 दिनों में ग्रामीणों की जांच हो जानी चाहिए। संक्रमित के मकान को पूरी तरह से सील किया जाएगा।

वॉलियंटर्स को सौंपी जिम्मेदारी

पुलिस और प्रशासन ने लिब्बरहेड़ी गांव की स्थिति को भांपते हुए स्थानीय लोगों को ग्रुप के माध्यम से वॉलंटियर्स बनाया है। ये गांव की स्थिति से पुलिस और प्रशासन को अवगत कराने के साथ ही उनका सहयोग भी करेंगे। वॉलंटियर्स को फिलहाल गांव में स्वास्थ्य विभाग का सहयोग करने को कहा गया है। साथ ही कंटेनमेंट जोन का उल्लंघन करने पर पुलिस को सूचना देने की भी जिम्मेदारी दी गई है।


एसपी देहात ने किया गांव का निरीक्षण

सोमवार को एसपी देहात प्रमेंद्र सिंह डोबाल ने भी लिब्बरहेड़ी गांव का निरीक्षण किया। साथ ही मंगलौर कोतवाली प्रभारी यशपाल सिंह बिष्ट से स्थिति की जानकारी ली। उन्होंने बाहर घूम रहे लोगों के खिलाफ मुकदमे दर्ज करने के साथ सख्त कार्रवाई के आदेश दिए हैं। उन्होंने बताया कि कंटेनमेंट जोन का पुलिस कड़ाई से पालन कराएगी। उल्लंघन करने वाले ग्रामीणों के खिलाफ केस दर्ज किए जाएंगे।

Source

Post a Comment

Previous Post Next Post