Breaking

Haridwar Kumbh Mela 2021 : कुंभ मेला में आने वाले श्रद्धालुओं का होगा रजिस्ट्रेशन और एंटीजन टेस्ट

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत

 कुंभ मेले में आने वाले श्रद्धालुओं का पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन और एंटीजन टेस्ट होगा। हर प्रवेश स्थल पर थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था होगी। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कुंभ मेला की तैयारियों की समीक्षा बैठक में अधिकारियों को ये निर्देश दिए। 


कुंभ में स्वयंसेवी बनेंगे पुलिस प्रशासन के मददगार


उन्होंने कहा कि 14 जनवरी को मकर संक्रांति के स्नान पर्व की अलग से एसओपी जारी की जाए। उन्होंने साफ कर दिया कि कुंभ मेला के दौरान कोविड-19 महामारी को लेकर बरती जा रही एहतियात और प्रबंधों में सरकार किसी भी तरह की ढील नहीं देगी।


मुख्यमंत्री आवास पर हुई इस बैठक में मुख्य सचिव ओम प्रकाश, पुलिस महानिदेशक, मेलाधिकारी व आईजी कुंभ मेला शामिल हुए। सभी अधिकारियों ने कुंभ मेला की अब तक तैयारियों की जानकारी मुख्यमंत्री को दी।  


2010 के कुंभ की तरह हों मेला की व्यवस्थाएं


मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को कुंभ मेले के सफल आयोजन एवं श्रद्धालुओं को सुविधा का ध्यान रखने के निर्देश दिए। उन्होंने सड़क, पुलों, पार्किंग स्थलों आदि के निर्माण पर ध्यान देने को कहा। उन्होंने इसकी व्यवस्थाओं को 2010 कुंभ के अनुरूप किये जाने की बात कही। उन्होंने प्रमुख अखाड़ों के प्रमुखों से समन्वय कर उनके सुझाव के अनुसार भी व्यवस्थाएं करने को कहा।

श्रद्धालुओं को सुरक्षित स्नान कराने की हो व्यवस्था

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस महत्वपूर्ण आयोजन में आने वाले श्रद्धालुओं को सुरक्षित ढंग से कुंभ स्नान की व्यवस्था की जाए। इसके लिए सभी संबंधित विभाग आपसी समन्वय से कार्य करें। इस संबंध में परिस्थिति के अनुकूल यथा समय एडवाइजरी जारी करने की व्यवस्था की जाए। 


पोर्टल पर हो रजिस्ट्रेशन, हर एंट्री प्वांइट पर थर्मल स्क्रीनिंग


सीएम ने कहा कि कुंभ मेले में आने वालों के लिए पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था हो। हर एंट्री प्वाइंट पर थर्मल स्क्रीनिंग के साथ ही एंटीजन टेस्ट की व्यवस्था की जाए।


भीड़ प्रबंधन पर हो फोकस


मुख्यमंत्री ने कुंभ मेले के दौरान भीड़ प्रबंधन की कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने सुझाव दिया कि इसके लिए अन्य राज्यों से भी विचार विमर्श किया जाए। उन्होंने पुलिस महानिदेशक से भीड नियंत्रण  के लिए कंटीजेंट प्लान तैयार करने को कहा।


...तो कुंभ स्नानों का लिटमस टेस्ट होगा मकर संक्रांति स्नान


प्रदेश सरकार 14 जनवरी को होने वाले मकर संक्रांति स्नान पर्व को कुंभ मेले के अन्य स्नानों के लिटमस टेस्ट मान रही है। भीड़ प्रबंधन को लेकर अभी जो कार्ययोजना तैयार की गई है, मकर संक्रांति का स्नान पर्व पर उसकी परीक्षा होगी। एक तरह से यह भीड़ प्रबंधन को लेकर पूर्वाभ्यास भी होगा।


यही वजह है कि इस स्नान में राज्य के भीतर और बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को रोका या टोका नहीं जाएगा। कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए स्नान पर्व की व्यवस्था होगी।


शासकीय प्रवक्ता मदन कौशिक के मुताबिक, स्नान पर्व पर आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या से अन्य स्नान पर्वों पर जुटने वाली भीड़ का कुछ अंदाजा लगेगा। साथ ही कुंभ के दृष्टिगत भीड़ प्रबंधन की तैयारी करने और परखने में मदद मिलेगी।


Source


Post a Comment

Previous Post Next Post

उत्तराखंड हिंदी न्यूज की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें


Contact Form