Type Here to Get Search Results !

upstox-refer-earn

उत्तर भारत में भारी बारिश से मरने वालों की संख्या बढ़ी - UttarakhandHindiNews.in

उत्तर भारत में भारी बारिश से मरने वालों की संख्या बढ़ी - UttarakhandHindiNews.in


उत्तर भारत में कई दिनों तक भारी बारिश के कारण भूस्खलन और अचानक आई बाढ़ में कम से कम 41 लोगों की मौत हो गई और अधिकारियों का कहना है कि एक दर्जन से अधिक लापता हो गए।


हिमालयी राज्य उत्तराखंड के अधिकारियों ने कहा कि एक दिन पहले इसी तरह की घटनाओं में छह लोगों की मौत के बाद मंगलवार को ताजा भूस्खलन में 35 लोगों की मौत हो गई।


सबसे बुरी तरह प्रभावित नैनीताल क्षेत्र में मंगलवार तड़के सात अलग-अलग घटनाओं में उनमें से कम से कम 30 की मौत हो गई, बादल फटने के बाद - बारिश की एक अति-तीव्र बाढ़ - भूस्खलन की एक श्रृंखला शुरू हो गई और कई संरचनाएं नष्ट हो गईं।


नैनीताल के वरिष्ठ नागरिक अधिकारी अशोक कुमार जोशी ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया, "अब तक 30 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है, जबकि कई लोग अभी भी लापता हैं।"


जोशी ने कहा कि पहाड़ी क्षेत्र के कई दूरदराज के इलाकों में भारी बारिश से व्यापक नुकसान हुआ है।


एक अन्य स्थानीय नागरिक अधिकारी प्रदीप जैन ने कहा कि मरने वालों में से पांच एक ही परिवार के थे, जिनका घर बड़े पैमाने पर भूस्खलन से दब गया था।


टाइम्स ऑफ इंडिया के पत्रकार प्रशांत झा ने कहा कि सेना, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल और राज्य के आपदा प्रतिक्रिया बल सभी उत्तराखंड में मौजूदा बचाव प्रयासों में योगदान दे रहे हैं।


उन्होंने कहा, "जो गांव प्रभावित हुए हैं, वे बहुत दूर हैं और सड़कें कट गई हैं।"


अधिकारियों ने कहा कि बचाव कार्यों में कम से कम दो से तीन दिन लगेंगे और दर्जनों लोग अब भी लापता हैं।


उत्तरी अल्मोड़ा जिले में एक और भूस्खलन में विशाल चट्टानों और मिट्टी की एक दीवार के ढहने और उनके घर में समा जाने के बाद पांच लोगों की मौत हो गई।


राज्य के दो दूरस्थ जिलों में सोमवार को कम से कम छह अन्य लोगों की मौत हो गई।


भारतीय मौसम विभाग ने अगले दो दिनों के दौरान क्षेत्र में "भारी" से "बहुत भारी" बारिश की भविष्यवाणी करते हुए मंगलवार को अपने मौसम की चेतावनी को बढ़ा दिया और चौड़ा कर दिया।


मौसम कार्यालय ने कहा कि कई इलाकों में सोमवार को 400 मिमी (16 इंच) से अधिक बारिश हुई, जिससे भूस्खलन और बाढ़ आई।


अधिकारियों ने स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया और राज्य में सभी धार्मिक और पर्यटन गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया।


टेलीविज़न फ़ुटेज और सोशल मीडिया वीडियो में निवासियों को नैनीताल झील के पास घुटने के गहरे पानी से गुजरते हुए दिखाया गया है, जो एक पर्यटक आकर्षण का केंद्र है, और गंगा ऋषिकेश में इसके किनारों को तोड़ती है।


रामगढ़ में कोसी नदी के कई इलाकों में पानी भरने से 100 से ज्यादा पर्यटक एक रिजॉर्ट में फंस गए हैं।


भारत के हिमालयी उत्तर में भूस्खलन एक नियमित खतरा है, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि वे अधिक सामान्य होते जा रहे हैं क्योंकि बारिश तेजी से अनिश्चित होती जा रही है और ग्लेशियर पिघल रहे हैं।


विशेषज्ञों ने जलविद्युत बांधों और वनों की कटाई पर निर्माण कार्य को भी जिम्मेदार ठहराया।


फरवरी में, उत्तराखंड में एक भीषण बाढ़ ने एक सुदूर घाटी को तहस-नहस कर दिया था, जिसमें लगभग 200 लोग मारे गए थे। 2013 में वहां कम से कम 5,700 लोग मारे गए थे।


पूर्वानुमानकर्ताओं ने आने वाले दिनों में दक्षिणी राज्य केरल में और बारिश की चेतावनी दी है, जहां शुक्रवार से बाढ़ में कम से कम 27 लोगों की मौत हो चुकी है।


राज्य में कई बांध खतरे के निशान के करीब थे और बड़ी नदियों के उफान पर होने के कारण अधिकारी हजारों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जा रहे थे।


भारत के मौसम कार्यालय ने कहा कि मंगलवार को थोड़ी राहत के बाद अगले दो दिनों में राज्य में फिर से भारी बारिश होगी।


20 अक्टूबर को सर्वाधिक पढ़े जाने वाले उत्तराखंड समाचार

उत्तराखंड: नदी में बाढ़ में फंसा हाथी बचाया गया, वीडियो वायरल

Uttarakhand Rain News: केदारनाथ से वापसी के दौरान भारी बारिश में फंसे 22 यात्रियों को SDRF ने बचाया

Dharchula News: धारचूला के उच्च हिमालयी क्षेत्रों में हुई बर्फबारी

UTTARAKHAND RAINS: मलबा आने की वजह से बद्रीनाथ हाईवे 7 जगहों पर बंद

भूस्खलन, बारिश के बीच बद्रीनाथ हाईवे पर फंसे वाहन से यात्रियों को बचाया

Chardham Yatra 2021: केदारनाथ-गंगोत्री समेत इस सीज़न में सबसे ज्यादा श्रद्धालु चारधाम पहुंचे

श्रीराम भूमि पहुंचे सीएम धामी, रामलला दरबार में दी हाज़िरी - UTTARAKHAND NEWS

UTTARAKHAND WEATHER NEWS: भारी बारिश की संभावना के साथ रेड अलर्ट जारी

RT-PCR रिपोर्ट के बिना आने वाले लोगों को दी जा रही है कोविड-19 जांच की सुविधा: देहरादून एसएसपी

38 'कोरोना वारियर्स' डॉक्टरों ने आईटीबीपी अकादमी में युद्ध प्रशिक्षण किया पूरा

'Vaccination Mela' Dehradun: COVID-19 वैक्सीन की दूसरी खुराक लेने पर लोग पुरस्कार जीतेंगे

Badrinath-Kedarnath Temples Closing: नवंबर में सर्दियों के लिए बंद हो जाएंगे मंदिर के कपाट

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

उत्तराखंड की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें