उत्तराखंड: उम्र 55 से कम और अंग्रेजी अच्छी है तो अटल उत्कृष्ट स्कूलों के लिए करें आवेदन

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

 यदि आप सरकारी माध्यमिक स्कूलों में प्रिंसिपल, लेक्चरर या फिर सहायक अध्यापक हैं, आपकी अंग्रेजी अच्छी है और उम्र 55 साल से कम है तो अटल उत्कृष्ट स्कूलों में तैनाती के लिए आवेदन कर सकते हैं। शिक्षा विभाग की ओर से इन स्कूलों में तैनाती के लिए 15 मई तक ऑनलाइन आवेदन मांगे गए हैं।



शिक्षा विभाग ने इन स्कूलों में तैनाती के लिए सरकारी स्कूलों के प्रिंसिपलों से आवेदन मांगे हैं। इसके अलावा हिंदी, अंग्रेजी, संस्कृत, गणित, जीव विज्ञान, रसायन विज्ञान, भौतिक विज्ञान, भूगोल, अर्थशास्त्र, राजनीति विज्ञान सहित विभिन्न विषयों के लेक्चरर से आवेदन मांगे हैं।



इसी तरह विभिन्न विषयों के सहायक अध्यापक एलटी से आवेदन मांगे गए हैं। शिक्षा निदेशालय की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि आवेदनकर्ता अंग्रेजी माध्यम से पठन-पाठन एवं संवाद में सक्षम हो।


इसके साथ ही उनकी आयु एक मई 2021 को 55 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। आदेश में कहा गया है कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए केवल मेल से भेजे गए आवेदन स्वीकार किए जाएंगे।

प्रदेश में मात्र 15 फीसदी शिक्षकों को लगी कोविड वैक्सीन

प्रदेश में अब तक मात्र 15 फीसदी शिक्षकों को कोविड वैक्सीन लगी है। यह कहना है जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ का। संगठन ने मुख्यमंत्री से शिक्षकों की कोविड ड्यूटी लगाने से पहले वैक्सीनेशन की मांग की है। 


संगठन के प्रदेश अध्यक्ष विनोद थापा और महामंत्री राजेंद्र बहुगुणा ने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सुरक्षा के उपाए न किए जाने से अब तक कई शिक्षकों एवं कर्मचारियों की मौत हो चुकी है। इसके बावजूद बिना वैक्सीनेशन के शिक्षकों की विभिन्न जिलों में कोविड ड्यूटी लगाई जा रही है। जिससे इन शिक्षकों के संक्रमित होने का खतरा पैदा हो गया है।


उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामलों को देखते हुए शिक्षकों की सुरक्षा के लिए पुख्ता इंतजाम किए जाएं। जिलों में निर्देश जारी किए जाएं कि बिना वैक्सीनेशन किसी भी शिक्षक की कोविड ड्यूटी में न लगाई जाए।


कोविड ड्यूटी लगाने से पहले उनका वैक्सीनेशन किए जाने के साथ ही उन्हें पीपीई किट उपलब्ध कराई जाएं। संगठन के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि शिक्षकों की कोविड ड्यूटी के दौरान उनकी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम न होने से उनमें नाराजगी बनी है।

Source

Post a Comment

Previous Post Next Post