UBTER:नर्सिंग भर्ती परीक्षा पर उपजा विवाद, जानिए इस बार क्या है वजह

नर्स
नर्स

 राज्य के सरकारी अस्पतालों में कार्यरत संविदा स्टाफ नर्सों ने 15 जून को आयोजित होने वाली स्टाफ नर्स भर्ती परीक्षा का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि नर्सेज की भर्ती वरिष्ठता के आधार पर कराई जाए। संविदा एवं बेरोजगार स्टाफ नर्स महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष हरीकृष्ण बिजल्वाण ने कहा कि राज्य के अस्पतालों में आउटसोर्स व एनएचएम के तहत बड़ी संख्या में बेरोजगार संविदा के तहत काम कर रहे हैं। इन सभी की नियुक्ति एक तय प्रक्रिया के तहत हुई है। कोविड काल में जान जोखिम में डालकर काम करने के अलावा पिछले कई सालों से ये सभी कार्यरत हैं। राज्य में अभी तक स्टाफ नर्सों की भर्ती वरिष्ठता के आधार पर होती आई है। ऐसे में नियमावली बदलकर नर्सेज भर्ती में खेल करने की साजिश रची जा रही है।


उन्होंने कहा कि राज्य के संविदा एवं बेरोजगार स्टाफ नर्स स्टाफ नर्स भर्ती परीक्षा का बहिष्कार करेंगे। बिजल्वाण ने कहा कि सरकार संविदा पर कार्यरत स्टाफ नर्स को जल्द नियमित करे। उधर, कुमाऊं में नर्सिंग भर्ती परीक्षा का विरोध हुआ है। उत्तराखंड में संविदा एवं बेरोजगार स्टाफ नर्सेज महासंघ से जुड़े नर्सिंग स्टाफ ने शनिवार को बुद्ध पार्क में प्रदर्शन किया। ये 15 जून को प्रस्तावित नर्सिंग भर्ती परीक्षा रद्द करने की मांग कर रहे हैं। इनका कहना है कि कुछ नर्सिंग कर्मी कोरोना ड्यूटी करते हुए पॉजिटिव हो गए, जबकि कुछ बीमार हैं। साथ ही कहना है कि कई लोगों की नर्सिंग सेवा 15 साल तक हो गई है।


ऐसे परीक्षा न लेकर वर्षवार वरिष्ठता के क्रम में नियुक्त किया जाए। कहना है कि स्टाफ नर्स की पोस्ट डिप्लोमा किए हुए व्यक्ति के लिए है। ऐसे डिग्री धारक की पात्रता तय करना भी ठीक नहीं है। सरकार आदेश में संशोधन कर 70 फीसदी डिप्लोमा और 30 फीसदी पद डिग्री वालों के लिए निर्धारित किए जाएं। प्रदर्शन करने वालों ने दो टूक शब्दों में कह दिया है अगर परीक्षा रद्द नहीं की गई तो वे सामूहिक अवकाश पर चले जाएंगे। इससे अगर अस्पतालों में काम बाधित हुआ तो सरकार जिम्मेदार होगी।


कैबिनेट मंत्री जोशी के आवास पर डटे बेरोजगार

संविदा एवं बेरोजगार स्टाफ नर्स महासंघ से जुड़ स्टाफ नर्स शनिवार को कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी के आवास पर डटे रहे। उन्होंने इस मामले में हस्तक्षेप कर परीक्षा निरस्त करने की मांग की। प्रदेश अध्यक्ष हरीकृष्ण बिजल्वाण ने बताया कि कैबिनेट मंत्री जोशी ने उन्हें मुख्यमंत्री से मिलकार जल्द कोई समाधान निकालने का भरोसा दिलाया है। उन्होंने कहा कि कैबिनेट मंत्री ने आवास पर आए सभी स्टाफ नर्स के लिए भोजन की व्यवस्था की। संविदा बेरोजगार नर्सेज ने सराहना की है। उन्होंने कहा कि कोविड काल के दौरान सेवा के बदले समाज में उन्हें बड़ा सम्मान मिला है।

Source