Header Advertisement

चमोली आपदा Live : तपोवन सुरंग में दो और रैणी में मिला एक शव, कुल मृतक हुए 61, अभी भी 143 लापता

चमोली आपदाः सुरंग के अंदर मलबा हटाने का कार्य जारी
चमोली आपदाः सुरंग के अंदर मलबा हटाने का कार्य जारी

सुरंग से दो और रैणी क्षेत्र से एक शव बरामद

- आज सुरंग से दो और रैणी क्षेत्र से एक शव बरामद किया गया है। सुरंग से कुल 13 शव निकाले जा चुके हैं। अब तक 61 शव और 27 मानव अंग बरामद हो चुके हैं। 143 लोग अभी भी लापता हैं।


खोज और राहत बचाव कार्य जारी


- तपोवन सुरंग से आज तड़के साढ़े चार बजे शव बरामद किया गया। सुरंग में पानी आने पर पंपिंग द्वारा पानी निकाल दिया जा रहा है। खोज और राहत बचाव कार्य जारी है। 


कुल मृतक 59, अभी भी 145 लापता


- गुरुवार की सुबह एक शव मिलने के बाद अब कुल मृतकों की संख्या 59 हो गई है। वहीं अभी भी 145 लोग आपदा के बाद से लापता चल रहे हैं।

 

सुरंग से मिला एक शव


- विगत सात फरवरी को उत्तराखंड के चमोली जिले में आई आपदा के 12वें दिन बाद आज सुबह तपोवन सुरंग से एक शव बरामद किया गया है। सुरंग से मलबा निकालने का कार्य फिलहाल जारी है।


चमोली आपदा: शांति ने नहीं छोड़ी उम्मीद, आज भी कर रही जल प्रलय में लापता पति का इंतजार



तपोवन से लौटी चिकित्सकों की टीम


- उप जिला चिकित्सालय की मेडिकल टीम चमोली जिले के आपदा प्रभावित क्षेत्र तपोवन से अपनी सेवाएं देकर एक सप्ताह बाद श्रीनगर लौट गई है। टीम ने आपदा में मारे गए शवों के पोस्टमार्टम करने के साथ ही ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण भी किया। टीम में शामिल उप जिला चिकित्सालय के वरिष्ठ सर्जन डा. लोकेश सलूजा व आर्थोपेडिक सर्जन डा. गौतम नैथानी ने आपदा प्रभावित क्षेत्र में फंसे लोगों की मदद करने के लिए जी जान से जुटे सैनिकों व अर्द्धसैनिक बलों द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना की। उन्होंने बताया कि हमारी टीम को अचानक पुल टूट जाने के कारण अलग-थलग पड़े गांवों में सेना द्वारा रस्सियों के सहारे पहुंचाया गया। टीम ने भंग्यूल, गहर, जुवाग्वाड़, जुग्यू आदि गांवों में जाकर ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण कर दवाईयां वितरित कीं। टीम में डा. गौतम नैथानी, डा. लोकेश सलूजा, फार्मेसिस्ट सतीश काला, वार्ड ब्याव देव बिष्ट आदि शामिल थे।


चमोली जल प्रलय: ऋषिगंगा में अब पानी बढ़ते ही बजने लगेगा सायरन, एक किलोमीटर तक देगा सुनाई


25 मानव अंग बरामद

- बुधवार को सुरंग, बैराज और रैणी साइट कोई शव बरामद नहीं हुआ। हालांकि चमोली के बराली गांव के पास एक मानव अंग (हाथ) बरामद हुआ था। 25 मानव अंग बरामद हुए हैं। बैराज साइट से भी पानी और मलबा हटाने का काम शुरू कर दिया गया है। 


जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने बताया कि टनल से काफी पानी निकल रहा है। जल्द से जल्द पानी निकाला जा सके। इसके लिए पंप लगाए गए हैं। बैराज साइट में जहां सूखा मिल रहा है, वहां जेसीबी ले जाने का प्रयास किया जा रहा है। इससे सर्च अभियान तेज किया जा सके। रैणी के पास भी एनडीआरएफ और जेसीबी लगाकर शवों की तलाश की जा रही है।

source


 

Post a Comment

0 Comments