Coronavirus in Uttarakhand: 24 घंटे में 54 नए संक्रमित मिले, एक मरीज की मौत

उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में एक कोरोना संक्रमित मरीज की मौत हुई है, जबकि 54 नए संक्रमित मरीज मिले हैं। वहीं, कुल संक्रमितों की संख्या 96773 हो गई है

कोरोना की जांच
कोरोना की जांच

 उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में एक कोरोना संक्रमित मरीज की मौत हुई है, जबकि 54 नए संक्रमित मरीज मिले हैं। वहीं, कुल संक्रमितों की संख्या 96773 हो गई है।  38 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया है। वर्तमान में 423 सक्रिय मरीजों का इलाज चल रहा है। 



स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार मंगलवार को 8476 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। वहीं, देहरादून जिले में 30 कोरोना मरीज मिले। जबकि हरिद्वार में सात, पौड़ी और नैनीताल में तीन-तीन, ऊधमसिंह नगर में 10 और टिहरी में एक संक्रमित मिला है। 



सावधान! अभी कोरोना गया नहीं, आपकी ये लापरवाही पड़ सकती है भारी, तस्वीरें...


अल्मोड़ा, बागेश्वर, चमोली, चंपावत, पिथौरागढ़, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी में एक भी कोरोना संक्रमित केस सामने नहीं आया है। प्रदेश में अब तक 1690 कोरोना मरीजों की मौत हो चुकी है। संक्रमितों की तुलना में ठीक होने वालों की संख्या अधिक होने से रिकवरी दर 96.38 प्रतिशत हो गई है। 

कुंभ मेलाधिकारी ने लगवाया कोरोना का टीका 

कुंभ मेलाधिकारी दीपक रावत ने ऋषिकुल आयुर्वेद परिसर स्थित टीकाकरण केंद्र में कोरोना का टीका लगवाया। टीका लगाने के बाद मेलाधिकारी ने वैक्सीनेटरों को गुलदस्ता भेंट कर उनका आभार जताया। मेलाधिकारी ने कहा कि कोविड टीका पूरी तरह से सुरक्षित है। 


मेलाधिकारी दीपक रावत ने कहा कि हरिद्वार महाकुंभ मेला 2021 पूरी तरह कोविड सुरक्षित कराने के लिए पूरे इंतजाम किए गए हैं। मेला ड्यूटी में तैनात प्रशासनिक, पुलिस अधिकारियों, कर्मचारियों के साथ ही मीडियाकर्मियों को भी नि:शुल्क कोविड टीकाकरण कराया जा रहा है। मेलाधिकारी ने बताया कि कुंभ मेले में कोविड संक्रमण से बचाव के लिए करीब एक हजार जगहों पर फिक्स सैनिटाइजर मशीन लगवाई जा रही है। नि:शुल्क मास्क का वितरण भी किया जाएगा। 


72 घंटे पुरानी कोविड रिपोर्ट लेकर आएं

मेलाधिकारी दीपक रावत ने श्रद्धालुओं से कुंभ स्नान के दौरान 72 घंटे पुरानी कोविड आरटीपीसीआर की नेगेटिव रिपोर्ट लाने की अपील की। उन्होंने कहा स्वयं और दूसरों को कोविड संक्रमण से सुुरक्षित रखने के सुरक्षा नियमों का पालन करना जरूरी है। 


इन वैक्सीनेटरों का किया सम्मानित

मेलाधिकारी ने टीका लगने के बाद वैक्सीनेटरों से वैक्सीनेशन की प्रक्रिया और एहतियात को लेकर पूरी जानकारी ली। इसके बाद उन्होंने वैक्सीनेटर आरती रावत, प्रीति गोला, कल्पना, सुषमा ध्यानी, शिवानी, सैनी, अन्नी चौहान को सम्मानित किया।

कोरोना टीकाकरण में चमोली जिला प्रदेश में अव्वल

चमोली की जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने कोरोना टीकाकरण की समीक्षा बैठक ली। बैठक में एसीएमओ डा. उमा रावत ने बताया कि कोरोना टीकाकरण में चमोली जिला पूरे प्रदेश में पहले नंबर पर है। जिले में अभी तक 90.8 प्रतिशत स्वास्थ्य कर्मियों को पहली डोज लग और 23 प्रतिशत को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है। 


कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक में डीएम ने निर्धारित तिथि तक सभी प्रथम पंक्ति के कर्मचारियों के टीकाकरण के निर्देश दिए और आईटीबीपी और पुलिस के जवानों के टीकाकरण में तेजी लाने को कहा। उन्होंने सीमांत क्षेत्र मलारी में तैनात आईटीबीपी के जवानों के टीकाकरण के लिए प्लान तैयार करने को कहा। कहा कि मलारी में टीकाकरण के दौरान यदि कोई रिएक्शन दिखेगा तो हेली सेवा उसके लिए तैयार रहेगी। डीएम ने पुलिस अधिकारियों को जवानों की सूची तत्काल उपलब्ध कराने को कहा, जिससे छूटे जवानों का प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण हो सके। 


एसीएमओ डा. उमा रावत ने बताया कि एक मार्च तक प्रथम पंक्ति के कर्मचारियों का टीकाकरण किया जाना है। इसके अलावा डीएम ने एक से छह मार्च तक चलने वाले राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस को लेकर भी निर्देश दिए। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के मैनेजर अनूप थपलियाल ने बताया कि एक से 19 साल तक के 110138 बच्चों को कृमि मुक्ति दवा दी जाएगी। बैठक में सहायक प्रतिरक्षण अधिकारी रचना, वैक्सीन कोल्ड चैन मैनेजर महेश देवराडी, डीपीओ संदीप कुमार, डीडीएमओ एनके जोशी, डीपीआरओ आरएस गुंजयाल व अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

कोरोना संक्रमण रोकने के लिए सीमावर्ती क्षेत्रों में निगरानी बढ़ाने के निर्देश

प्रदेश में भले ही कोरोना संक्रमण काबू में है, लेकिन दूसरे राज्यों में बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सरकार की ओर से देहरादून, हरिद्वार, ऊधमसिंह नगर जिले की सीमाओं पर निगरानी और कोविड जांच बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। 


प्रदेश में कोरोना संक्रमण का पहला मामला 15 मार्च को मिला था। तब से लेकर वर्तमान में संक्रमितों की आंकड़ा 96 हजार से ज्यादा हो गया है। हालांकि इसमें 93 हजार से अधिक मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। प्रदेश में रोजाना औसतन 8 से 9 हजार सैंपलों की जांच हो रही है। जांच की तुलना में संक्रमितों की संख्या काफी कम है। प्रतिदिन मिलने वाले संक्रमित मामलों की संख्या सौ से कम है। महाराष्ट्र समेत देश के अन्य राज्यों में कोरोना संक्रमण की रफ्तार बढ़ रही है। केंद्र सरकार की ओर से संक्रमण रोकने के लिए सख्त निगरानी रखने के निर्देश राज्यों को दिए गए। 


सचिव स्वास्थ्य अमित सिंह नेगी का कहना कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण नियंत्रण में है। प्रदेश के देहरादून, हरिद्वार, ऊधमसिंह  नगर जिले की सीमाओं पर निगरानी और कोविड जांच बढ़ाने के लिए जिलों को निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण का खतरा अभी खत्म नहीं हुआ है। लोगों को मास्क पहनने के साथ सार्वजनिक स्थानों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। साथ ही संक्रमण को लेकर सतर्क रहने की जरूरत है।

Source

एक टिप्पणी भेजें

Cookie Consent
हम ट्रैफ़िक का विश्लेषण करने, आपकी प्राथमिकताओं को याद रखने और आपके अनुभव को अनुकूलित करने के लिए इस साइट पर कुकीज़ प्रदान करते हैं।
Oops!
ऐसा लगता है कि आपके इंटरनेट कनेक्शन में कुछ गड़बड़ है। कृपया इंटरनेट से कनेक्ट करें और फिर से ब्राउज़ करना शुरू करें।
AdBlock Detected!
We have detected that you are using adblocking plugin in your browser.
The revenue we earn by the advertisements is used to manage this website, we request you to whitelist our website in your adblocking plugin.
Site is Blocked
Sorry! This site is not available in your country.