रुड़की: प्रेम संबंधों में बाधा बन रहे प्रेमिका के दो बच्चों को प्रेमी ने नहर में फेंका, एक की मौत, दूसरा लापता

पुलिस की गिरफ्त में आरोपी प्रेमी
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी प्रेमी 

 उत्तराखंड के रुड़की में प्रेम संबंधों में बाधा बनने के कारण नफरत की आग में जल रहे युवक ने प्रेमिका के दो मासूम बच्चों को गंगनहर में फेंक दिया। एक बच्चे की डूबने से मौत हो गई जबकि दूसरा लापता है। शनिवार देर रात पुलिस और एसडीआरएफ की टीम ने बच्चे का शव गंगनहर से निकाल लिया जबकि दूसरे की तलाश की जा रही है। वहीं, प्रेमिका की तहरीर पर पुलिस ने युवक के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है। साथ ही आरोपी को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया।


रविवार को मंगलौर कोतवाली में प्रेसवार्ता कर एसपी देहात एसके सिंह ने बताया कि शनिवार को पुलिस को सूचना मिली थी कि सुमन पत्नी अमित निवासी उल्हेड़ा के दो बेटे लक्की उर्फ काला (7) और लविश उर्फ गंजी (6) लापता हैं। तत्काल सीओ अभय प्रताप सिंह और एएसपी हिमांशु वर्मा के नेतृत्व में पुलिस टीम का गठन किया गया।



पुलिस ने पहले बच्चों की इधर-उधर तलाश की, लेकिन कोई सुराग नहीं लगा। तभी सूचना मिली कि दोनों बच्चों को सुमन के प्रेमी लाखन के साथ जाते देखा गया है। पुलिस ने उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की। पहले तो उसने पुलिस को बरगलाने का प्रयास किया, लेकिन सख्ती से पूछताछ करने पर टूट गया।


एसपी देहात के मुताबिक, लाखन ने बताया कि वह सुमन से प्यार करता है, लेकिन दोनों बच्चे इसमें बाधा बन रहे थे। लिहाजा वह उनसे नफरत करने लगा और दोनों को ठिकाने लगाने की योजना बनाई। शनिवार दोपहर सुमन की गैर मौजूदगी में वह बच्चों को गंगनहर की ओर घुमाने का बहाना बनाकर ले गया। यहां दोनों को मोहम्मदपुर झाल के पास गंगनहर में धक्का दे दिया और कमरे पर आकर सो गया।


एसपी देहात एसके सिंह ने बताया कि पुलिस रात में ही मौके पर पहुंची और बचाव अभियान शुरू किया। देर रात करीब 11 बजे पुलिस ने लक्की उर्फ काला का शव गंगनहर से बरामद कर लिया। साथ ही पोस्टमार्टम के लिए रुड़की भेज दिया। सुमन की तहरीर पर पुलिस ने लाखन निवासी साखन खुर्द, थाना देवबंद के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है। साथ ही आरोपी को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया है। 

रात में पुलिस, दिनभर एसडीआरएफ ने की खोजबीन 

शनिवार रात पुलिस ने गंगनहर में तलाशी अभियान चलाकर एक बच्चे का शव बरामद कर लिया। रात में ही मोहम्मदपुर झाल पर ड्रैगन लाइट, टार्च और रस्सों आदि की व्यवस्था कर शव बाहर निकाला गया। इसके लिए एसपी देहात ने पुलिस टीम की पीठ थपथपाई है। वहीं, रविवार सुबह एसडीआरएफ की टीम भी घटनास्थल पर पहुंची और दूसरे बच्चे की खोजबीन शुरू हुई। एसपी देहात ने बताया कि पुलिस और एसडीआरएफ की अलग-अलग टीमें लविश उर्फ गंजी की तलाश में जुटी हैं। 


पति की हो चुकी है मौत

सुमन उल्हेड़ा गांव की रहने वाली है जबकि लाखन देवबंद क्षेत्र का है। दोनों की उम्र 30 वर्ष के आसपास बताई जा रही है। हाईवे स्थित ग्राम दहियाकी में किराये पर कमरा लेकर दोनों अगस्त 2020 से रह रहे थे। पुलिस के अनुसार, वर्ष 2019 में सुमन के पति अमित की मौत हो गई थी। घटना के समय सुमन दवा फैक्टरी में काम पर चली गई थी जबकि उसके दोनों बच्चे प्रेमी के साथ घर पर थे। 


उपनिरीक्षक बचकोटी ने निभाई अहम भूमिका

कोतवाली में तैनात उपनिरीक्षक नंद किशोर बचकोटी की सक्रियता से पुलिस ने मात्र दो घंटे में घटना का खुलासा कर दिया। रात में बचकोटी को ही किसी ग्रामीण ने मामले की जानकारी दी। उन्होंने तत्काल कार्रवाई कर घटना के खुलासे में अहम भूमिका निभाई। पुलिस अधिकारियों ने उनकी प्रशंसा की है। घटना का खुलासा करने वाली टीम में उनके अलावा उपनिरीक्षक कुलेंद्र सिंह रावत, तस्लीम आरिफ, भजराम चौहान, कर्मवीर सिंह, कांस्टेबल रामवीर, इसरार, गुलशन, धीरज, रविंद्र और अनीता आदि शामिल रहे।

Source

Previous Post Next Post