Hot Widget

Type Here to Get Search Results !

हरिद्वार कुंभ 2021: पृथ्वी की एक लाख परिक्रमा के पुण्य के बराबर होता है कुंभ का एक स्नान

हरिद्वार कुंभ
हरिद्वार कुंभ

 धरती पर होने वाला कुंभ स्नान पुराणों के सृजन से भी प्राचीन है। मंथन और अमृत कलश का घटनाकाल पुराना है। पुराणों का लेखन बाद में हुआ। तभी सभी 18 पुराणों में कुंभ महिमा का गान है। सृष्टि के सृजनकर्ता विष्णु की आराधना में रचित विष्णु पुराण तो कुंभ की महानता और पुण्य से भरा पड़ा है। वेद सबसे प्राचीन हैं। सृष्टि के आरंभ में ब्रह्मा मुख से उनका गान हुआ है। अमृत कुंभ का वर्णन ऋग्वेद में भी है। वैदिक सोम से भरे अमृत कलश से मानवमात्र के कल्याण की कामना की गई है। विष्णु पुराण के एक श्लोक के अनुसार एक सौ वाजपेय यज्ञ, एक हजार अश्वमेध यज्ञ तथा पृथ्वी की एक लाख परिक्रमाओं के बराबर कुंभ का एक स्नान है। सौ माघ स्नान, एक हजार कार्तिक स्नान और नर्मदा में एक करोड़ वैशाख स्नान के बराबर पुण्य कुंभ महापर्व के एक स्नान से मिल जाता है। विष्णुयाग में लिखा है कि जो लोग हरिद्वार कुंभ नगर में निवास कर स्नान करते हैं, वे संसार बंधन से मुक्त होकर परमधाम को प्राप्त होते हैं।


यह भी पढ़ें... हरिद्वार कुंभ मेला 2021: शाही स्नान पर पैदल नहीं चलेंगे श्रद्धालु, गंगा घाटों के लिए चलेंगी शटल सेवा की 700 बसें


हरिद्वार कुंभ
हरिद्वार कुंभ 

वायु पुराण के अनुसार कुंभ में गंगा तट पर जप, तप, यज्ञ और श्राद्ध करने से तमाम जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं।


हरिद्वार कुंभ
हरिद्वार कुंभ 

स्कंद पुराण के केदारखंड, कूर्म पुराण, मत्स्य पुराण, गरुड़ पुराण, वराह पुराण और वामन पुराण में कुंभ के अमृत स्नान की महिमा गाई गई है।

वहीं कुंभ के शाही और पर्व स्नान पर यदि हरिद्वार-दिल्ली हाईवे पर जाम की स्थिति बनी तो हिल बाईपास को वाहनों के आवागमन के लिए खोल दिया जाएगा।


हरिद्वार कुंभ
हरिद्वार कुंभ 

मेला प्रशासन ने एक करोड़ 70 लाख रुपये से हिल बाईपास को तैयार किया है। दो साल पहले पहाड़ दरकने से हिल बाईपास पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया था।

Source



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

उत्तराखंड की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें